काँवड़ यात्रा के नियम Kanwar Yatra RULES

काँवड़ यात्रा नियम

Kanwar Yatra RULES
           

काँवड़ यात्रा नियम Kanwar Yatra RULES

(सावधानियां)

काँवड़ यात्रा नियम Kanwar Yatra RULES
काँवड़ यात्रा नियम Kanwar Yatra RULES
(सावधानियां)

1.    ब्रह्मचर्य का पालन करें । जमीन अथवा तख्त पर ही सोएं ।

2.     रास्ते भर “बोल बम” और “ॐ नमः शिवाय”  का जाप करते चलें ।

3.      काँवड़ हमेशा ऊँचे और शुद्ध स्थान पर रखें ।

4.      किसी की निंदा आलोचना न करें । गाली इत्यादि अपशब्द का प्रयोग न करें ।

5.       किसी भी प्रकार का नशा न करें ।

6.       सुबह और शाम काँवड़ की आरती अनिवार्य रूप से करनी चाहिए ।

काँवड़ यात्रा नियम Kanwar Yatra RULES

7.        भगवान शिव का नाम लेते हुए ही काँवड़ उठाएं ।

8.          काँवड़ हमेशा दाहिने कंधे पर ही उठाएं ।

9.          दाएँ कंधे से बाएँ कंधे पर काँवड़ ले जाते समय काँवड़ हमेशा पीछे की ओर से ले जाएं । सिर के ऊपर से कभी भी काँवड़ नहीं ले जानी चाहिए ।

For More Videos CLICK HERE

10.        भोजन, शौच और नींद के बाद स्नान करना अनिवार्य है ।

11.       यात्रा के दौरान तेल, साबुन, कंघे का प्रयोग वर्जित है । कोई भी चमड़े का सामान साथ नहीं रखना चाहिए ।

12.        खाट, तख्त या किसी अन्य ऊंचे स्थान पर बैठना या सोना नहीं चाहिए ।

ज़रूर पढ़ें – “कांवड़ महिमा और कांवड़ कथा” 

 महाशिवरात्रि की कथा व महत्व

सोलह सोमवार व्रत विधि

ज़रूर पढ़ें – सोलह सोमवार व्रत कथा : Solah Somvar Vrat Katha 

यह सभी सावधानियां रखते हुए आप अपनी काँवड़ यात्रा का पूरा आनंद उठाएं ।

भगवान शिव आपकी मनोकामाएँ पूर्ण करें ।

आप सभी को काँवड़ यात्रा की बहुत बहुत शुभकामनाएं ।

“ॐ नमः शिवाय”

~~END~~

अगर आपको यह कहानी उपयोगी लगी हो तो कृपया इसे अपने दोस्तो के साथ शेयर ज़रूर कीजिये।

आप अपनी राय, सुझाव या विचार हमे comments के माध्यम से भेज सकते है। 

धार्मिक व पौराणिक कथा-कहानियों के लिए यहाँ CLICK करें 
For Submit your stories CLICK HERE
 आप ऐसी और कहानियाँ 

(Motivational short stories/समयानुसार धार्मिक सूचनाएँ) 

videos के रूप में अपने मोबाइल में प्राप्त करने के लिए,CLICK HERE   

Must Read

“कांवड़ महिमा और कांवड़ कथा” 

सोलह सोमवार व्रत विधि

सोलह सोमवार व्रत कथा : Solah Somvar Vrat Katha 

 महाशिवरात्रि की कथा व महत्व

आखिर ! क्यूँ हुआ अर्जुन को अकेले वनवास”

“क्या यही ज़िंदगी है”

“होनी – अनहोनी” 

“रूपान्तरण – The Transformation”

तलाश  “ईश्वर की खोज और मन का खेल”

“क्या सचमुच भगवान आए थे” – मन की व्याख्याएँ 

तृष्णा – और और की दौड़ 

जीवन यात्रा 

“मन की गति”– मन चलता बहुत है पर पहुंचता कहीं नहीं। ज़रूर पढ़ें।

उप वास श्री कृष्ण और रुक्मणी जी की बहुत प्यारी कथा

बढ़ते चलो   परिस्थितियाँ कितनी भी मुश्किल क्यूँ ना हो, कठिनाइयों के आगे कभी हार नहीं मानना ।

“प्रारब्ध”  कर्मो के फल किस तरह हमारे जीवन को प्रभावित करते हैं । 

“सच्ची प्रार्थना“

“जीने की कला”

“मूर्ख बना बुद्धिमान”

 

Share and Enjoy!

Pocket

Leave a Reply